सोचने वाली बात ……

दो प्रकार के इंसान का जब अंत समय आता है तो वो ह्रदय मे अनेक इच्छाये और पश्चात्ताप करते हुये मरते है….
पहले प्रकार के इंसान वो होते है जो पढ़ाई तो बहुत कर लेते है  या यूँ बोल सकते है कि उनको किताबी ज्ञान तो बहुत होता है किंतु उसको आचरण मे नही ला पाते है ।
दूसरे प्रकार के व्यक्ति वो होते है जो एक बार ज्ञानरूपी बीज तो बो लेते है पर खाद पानी (यानि ज्ञान से जुडा रहना ) सही ढंग से ना देने से फसल आने का फायदा नही उठा पाते है ।
इसलिये भले ही हम ज्ञान की बाते कम सुने पर उसे आचरण मे लाने की कोशिश अवश्य करे …. विमला

लिखने मे गलती हो तो क्षमायाचना🙏🙏

जय सच्चिदानन्द 🙏🙏

6 Comments Add yours

  1. Siddhant says:

    Very well said ma’am.

    Liked by 1 person

  2. Sunil@BeingHuman says:

    Bilkul sahi Khaa heh aapne ma’am ☝👌👌🙏

    Liked by 1 person

  3. Madhusudan says:

    Waah …satya wachan.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s