लफ़्ज़ – 4,5,6

1. ‪घमंड किस बात का जनाब ?‬

‪आज मिट्टी के ऊपर तो ,कल मिट्टी के नीचे‬ 🙏🙏

2. हमारी हस्तरेखा भी कितनी विचित्र है ,

होती तो हमारे हाथ  मे  

लेकिन समझ किसी और को आती है 👍👍

3. रेगिस्तान मे भी हरियाली आ जाती है 

जब अपने अपनों के साथ खड़े हो जाते है 👏🏻👏🏻

आपकी आभारी विमला मेहता 

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

   

6 Comments Add yours

  1. Madhusudan says:

    sabhi quote shandar……‪
    घमंड किस बात का जनाब ?‬
    आज मिट्टी के ऊपर तो ,कल मिट्टी के नीचे….wah bahut khub

    Liked by 1 person

  2. Raj says:

    Kabhi mujhe v lagtaa hai,ham sab kisi ke haatho ke kathputli matra hai,
    Really,bahut acchi baat aapne present ki hai.

    Liked by 2 people

  3. हा हा हा… सही बात, हमारे हाथों की रेखाएँ हम खुद नहीं समझ पाते, किसी औऱ को समझ आती हैं…

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s