आदत – जिंदगी की किताब (पन्ना # 312)


इंसान कभी भी अपनी आदतों का ग़ुलाम नही बने । वह किस कदर दुखी कर सकती है , एक दृष्टांत के ज़रिये समझने की कोशिश करेंगे ….

एक व्यक्ति रिटायर होने के बाद रोज किसी संत पुरूष के पास अच्छी ज्ञानवान बाते सुनने जाता । आते समय उसका चेहरा दुखी दिखता लेकिन वापसी मे वह प्रसन्नचित होकर लौटता । एक दिन वह बहुत दुखी होकर होकर संत पुरूष के पास गया और कहने लगा कि जब से मै नौकरी से रिटायर हुआ हूँ तब से बहुत दुखी रहने लगा हूँ । सुनकर संत ने पूछा तुम कहॉ नौकरी करते थे । उस व्यक्ति ने कहा कि मै थाने मे सबइंस्पेक्टर की पोस्ट पर काम करता  था और वहॉ सभी लोग मुझे देखते ही सेल्यूट मारते थे । संत बोले कि ये तो अच्छी बात है फिर क्यूँ दुखी होते हो ? वह व्यक्ति बोला कि यही तो मेरे लिये दुखी होने वाली बात है । मेरी लोगो से रोज़ सेल्यूट मरवाने की आदत पड़ गई । अब कोई सेल्यूट नही मारता तो बैचेनी शुरू हो जाती है । सेल्यूट तो दूर कोई बात भी नही करने आता है । यह सुनकर संत हँसते हुये बोले कि कभी कभी आदतों की ग़ुलामी भी इंसान को कितना दुखी कर देती है ।

अत: हमे कभी भी अपनी आदतों का ग़ुलाम नही बनना चाहिये

आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

लिखने मे गलती हो तो क्षमायाचना 🙏😊

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

8 Comments Add yours

  1. Jo bhi aap likhti hain bahut gajb ki likhti hain

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद । आपको लेख अच्छे लगे

      Like

  2. Super vichar
    Aapka blog bahut hi achha hai
    Aapke thoughts
    Padh kar bahut achha laga
    http://www.achhikhabare.com

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद ।

      Like

    2. आपने लेख की प्रशंसा की लेकिन अभी इतनी प्रशंसा के योग्य नही हूँ । इस तारीफ़ के लिये बहुत बहुत शुक्रिया ।

      Like

  3. Madhusudan says:

    बहुत खूब कहा आपने।👌👌👌

    Liked by 1 person

  4. pearlsbunch says:

    Wow it’s too good!

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s