ताकत # जिंदगी की किताब (पन्ना # 335)

एक एक ईंट से मकान बन जाता है

एक एक बूँद से सागर बन जाता है

मित्रों इस मिलने की अजीब ताकत को तो देखो

एक एक फूल के मिलने से गले का हार बन जाता है

बंधुओं ना किसी को गम का संसार दो

और ना किसी को धोखे से भरा प्यार दो

अगर गांधी या महावीर बनने की लालसा है तुम्हे

तो हर एक इंसानको इंसान सा प्यार दो ।

Ek ek iet se makan ban jata hn

Ek ek bund se sagar ban jata hn

Dosto es milney ki ajib takat ko toh dekho

Ek ek phul ke milney se galey ka haar ban jata hn

Bandhuoo na kisi ko gum ka Sansar doo

Na kisi ko dhokey se bhara pyar doo

Agar gandhi ya mahaveer bananey ki lalsa hein tumhay

Toh har ek insan ko insan sa pyar doo

आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

5 Comments Add yours

  1. Madhusudan says:

    अगर गांधी या महावीर बनने की लालसा है तुम्हे
    तो हर एक इंसानको इंसान सा प्यार दो ।
    bahut hi badhiya likha hai…….prem hi jivan hai…….

    Liked by 1 person

    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Liked by 1 person

  2. अति उत्तम है किताब जिन्दगी की,
    अवश्य फैलेगी खुशबू प्रेम और बन्दगी की

    Liked by 1 person

    1. बहुत बहुत धन्यवाद बढ़ावा देने के लिये

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s