उत्साह एवं मुस्कराहट # जिंदगी की किताब (पन्ना # 385)

उत्साह एवं मुस्कराहट ……

दोस्तों जिंदगी में उत्साह एवं मुस्कराहट का होना बहुत जरूरी है। काम कठिन हो या सरल ,मुस्कराहट भरे चेहरे के साथ उत्साह से किया गया कार्य कम समय मे भी अच्छे ढंग से हो जाता है व साथ मे बिगड़ते हुए काम को भी बना देता है ।वहीं निस्तेज और थका हुआ चेहरा लेकर कोई कार्य बिना उत्साह से करने पर बोरियत भरा व कठिन लगता है। उससे ग़ुस्सा व तनाव बढ़ जाता है व बना बनाया काम बिगड़ने की संभावना रहती है ।

एक बार कपड़ों की खरीदारी के लिये बाजार गये । वहॉ एक दुकान वाला बिना उत्साह से बुझे हुये चेहरे के साथ कपड़ा दिखाने लगा । ऐसा लग रहा था कि वह हमें जबरदस्ती कपड़े दिखा रहा है ,उसका चेहरा देखकर हमे वहॉ से कुछ भी ख़रीदने का मन नही हुआ और बिना खरीदारी किये उससे अगली दुकान पर चले गये । उस दुकान वाले ने मुस्कुराते चेहरे के साथ जोर शोर से कपड़े दिखाने शुरू कर दिये । जिस प्रकार के कपड़ो की फरमाईश करते ,वह बिना परेशान हुये उत्साह के साथ तुरंत दिखा देता । उसके ऐसे व्यवहार से हमने वही से सारे कपडो की खरीदारी कर ली ।

पहले दुकान वाले के अनुत्साह के साथ बुझे चेहरे व दूसरे के उत्साह से मुस्कुराते चेहरे से लोग किसके पास खरीदारी करना पसंद करेंगे ? जबकि दोनो दुकान वालों के पास हर तरह के कपड़ो की समान वैरायटी थी ।जवाब यही होगा कि सभी मुस्कानयुक्त उत्साहित इंसान से खरीदारी करना पसंद करेंगे ।

अब समझ मे आ गया कि पहली दुकान ग्राहक से खाली क्यों थी । ग्राहक नही होने से आमदनी पर भी प्रभाव पड़ता है ।

इसके बाद मैने भी मन मे निश्चय किया कि मैं भी अपनी इन कमियों को दूर करके अपने अंदर उत्साह का संचार करूंगी

इस घटना के बाद हर उदास व निराश व्यक्ति को उत्साह दिलाते हुये उसे मुस्कराते हुए काम करने की सलाह देती हूं।

आज के ज़माने मे धैर्य व सहनशीलता दोनो की कमी होने के कारण हम अपनी असफलता का कारण इधर उधर खोजते हैं, जबकि वास्तविक कारण हमारे स्वयं के ही अंदर छिपा होता है ।

जो लोग अपनी मंजिल तय करते है व पूरे उत्साह के साथ अपने कार्य मे संलग्न हो जाते है वे अपने जीवन में उच्च पद प्राप्त कर लेते हैं । जबकि कुछ लोग साधारण स्तर तक ही पहुंच पाते हैं ,तय मंजिल तक नहीं पहुंच पाते क्योंकि उनमें उत्साह का अभाव होता है।

यदि व्यक्ति हर सुबह उठते ही स्वयं के अंदर उत्साह का संचार करे और मन में यह दृढ़ निश्चय करे कि आज वह अपने अनेक महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करेगा तो वास्तव में वह ऐसा कर भी लेगा।

आपकी आभारी विमला विल्सन

लिखने मे गलती हो तो क्षमायाचना 🙏🙏

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

2 Comments Add yours

  1. Madhusudan says:

    jivan men sakaratmak soch aur utsaah insaan ko falak tak pahucha deta hai……bahut badhiya post.

    Liked by 1 person

    1. सराहने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s