गृहिणी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 327)

क्या हुआ गृहिणी अगर शिक्षक नही,

पर घर की हर समस्याओ का समाधान कर जाती है ।


क्या हुआ गृहिणी अगर डॉक्टर नही ,

पर घर मे छोटे मोटे मर्ज की दवा तो कर जाती है ।


क्या हुआ गृहिणी अगर एम.बी.ए. नही ,

पर कुशलता से घर और बाहर का मैनेजमेंट संभाल जाती है ।


क्या हुआ गृहिणी अगर कलाकार नही

पर हर रिश्तों का रोल अच्छा अदा कर जाती है ।


क्या हुआ गृहिणी अगर गणित मे होशियार नही

पर हर सुख व दुख का प्लस व माइनस जल्द कर जाती है ।


क्या हुआ गृहिणी अगर कम्प्यूटर की जानकार नही

पर घर मे कम्प्यूटर का काम कर जाती है

जिसमे पूरे परिवार का डाटा फीड है ।


क्या हुआ गृहिणी के पास कोई डिग्री नही

पर घर की सबसे बड़ी संस्थापक है ,

ऐसी संस्थापक जिसका कोई मोल नही , अनमोल जो होती है ।

picture taken from google


हर गृहिणी को समर्पित

Dedicated to all women


आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s