Quotes # 222,223,224,225,226

आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 220

औरत का दर्द चाहे बोले या ना बोले 😄😄 काम करुं तो सांस फूल जाती है और बैठ जाऊ तो सास फूल जाती है और कुछ ना करुँ तो खुद फूल जाती हूँ 😂😂😂😂 आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 217

भगवान ने हर बंदे को अच्छा बनाया है … ऐसा सोचने पर ही हम मस्त, स्वस्थ व खुश रह पायेंगे 🙂 हकीकत मे ना सास बुरी है,ना बहू ना भाभी बुरी है,ना ननद बस हालात व पद का असर उन्हें बुरा बना देता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

दर्द का अहसास # जिंदगी की किताब (पन्ना # 362)

दर्द का अहसास….. आज गुड़िया शादी के बाद पहली बार ससुराल से मायके मे कुछ दिनों के लिये आ रही थी ,पूरे घर मे चहल पहल थी ।इकलौता भाई बाहर से उसकी मनपसंद की वस्तुये ला रहा था ,तो भाभी उसके पसंद की खाने की चीज़ें बना रही थी । ट्रेन आने के समय से…

Quote # 210

बेशक एक नारी इज्जत की हक़दार है क्योंकि वह एक घर को छोड़कर दूसरे घर मे आती हैं लेकिन पुरूष भी उतनी ही इज्जत के क़ाबिल हैं क्योंकि वह भी एक अंजान स्त्री को खुद के साथ घर भी सौंप देता हैं । आपकी आभारी विमलाविल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

एक ऐसा डाईवॉर्स जिसके होने के बाद दिमाग ने नही दिल ने गवाही दी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 361)

आज कुछ काम से court मे जाना हुआ , वक़ील साहब के आने मे टाईम था । पास मे बैठे एक व्यक्ति ने बात करते समय बताया कि वह अपनी तलाक की पहली पेशी के लिये यहॉ आया है । तलाक का कारण सुनकर मैने कहा कि आप जैसा ही क़िस्सा मेरे अज़ीज़ दोस्त के…

Quote # 206

रिश्ते अंकुरित होते हैं प्रेम से जिंदा रहते हैं संवाद से महसूस होते हैं संवेदनाओं से जिये जाते हैं दिल से मुरझा जाते हैं गलतफहमियों से बिखर जाते हैं अंहकार से और मर जाते हैं शीत युद्ध से आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

मृत्युभोज के नाम एक संदेश # जिंदगी की किताब (पन्ना # 360)

🔸जिस घर मे पुत्र शोक पर क्रंदन कर रहे मॉ पिता वहॉ भोजन का निवाला तुम्हे कैसे भाता होगा ? 🔸जिस घर मे सूनी मॉग लिये रोती बिलखती विधवा युवती वहॉ बडे चाव से पंगत खाते हुये तुम्हे ज़रा भी पीड़ा नही होती ? 🔸जिस घर मे रक्षा सूत्र लिये बहना अपने भाई की याद…

Quotes # 201,202

जिंदगी की maths मे हर सांसें घटती होती है नये अनुभव जुड़ते है अलग अलग कोष्ठको में बंद हम बुनते रहते है समीकरण करते रहते हैं गुणा भाग जबकि जीवन का अंतिम सच शून्य है हमे इन दो पर ज्यादा नाज करना चाहिये पहले वो जो हमारा पेट भरते है – जय किसान दूसरे वो…

Black n white का जमाना # जिंदगी की किताब (पन्ना # 359)

बडे बुज़ुर्ग की जुबानी गुजरे जमाने की कहानी आज भी रूह को छू जाती है 🔘Black n white जमाने मे शर्म से ही चेहरा गुलाबी हो जाता था Parlour गये बिना ही चेहरा चमकाहट से भर जाता था जाने क्यो अब parlour जाकर भी वैसा चेहरा चमकाना मुश्किल हो जाता है 🔘Black n white जमाने…

Quote # 199,200

वह परिवार मंदिर से कम नही जहॉ अच्छे संस्कारों की भक्ति समर्पण की शक्ति दिलो मे भावना की मस्ती स्नेह की कश्ती हो मॉ बनते ही नारी की रूह तृप्त हो जाती है इसी सुखद क़र्ज को उम्र भर अदा करती है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 197,198

यूँ ही नहीं आती खूबसूरती रंगोली में अलग अलग रंगो को एक होना पड़ता है रिश्तों की खूबसूरतीमें भी रंगोली बनना पड़ता हैं इलाईची के दानों सा मुक़द्दर है यारों जितने पिसते गए महक उतनी ही बिखरती गई कभी अपने लिये कभी अपनों के लिये आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏