जहां चाह ,वहॉ राह # जिंदगी की किताब (पन्ना # 348)

सोलह साल का दीनू बहुत नटखट बच्चा था । स्कूल से आने के बाद कुछ ऐसी दिनचर्या थी कि खाना खाते समय टीवी देखना , फ़ोन पर दोस्तों से बात करना , थोड़ी देर सोकर शाम को दोस्तों के साथ खेलना व जैसे तैसे होमवर्क पूरा करना ताकि टीचर से सज़ा न मिले । पूरी…

खुशियॉ का क्यूँ करे इंतज़ार ,रखे हमेशा बरकरार # जिंदगी की किताब (पन्ना # 324)

खुशियॉ का क्यूँ करे इंतज़ार ,रखे हमेशा बरकरार… एक आदमी हर समय यह सोचकर बहुत परेशान रहता था कि उसकी जिन्दगी मे कोई खुशी क्यों नही आती । एक दिन वह उदास होकर भगवान से बातें करने लगा कि हे प्रभु मुझे बताओ मेरी जिन्दगी मे खुशियॉ क्यों नही है ? मैंने ऐसा क्या गुनाह…

संस्कार # जिंदगी की किताब (पन्ना # 319)

आज की भोगवादी संस्कृति ने उपभोगवाद को जिस तरह से बढ़ावा दिया है ,उससे बाहरी चमक दमक से ही इंसान को पहचाना जाता है जिसका परिणाम अच्छा नही है । वास्तव मे इंसान की पहचान संस्कारों से बनती है जो हमारे जीवन की शक्ति है । संस्कार उसके पूरे जीवन को दर्शाते है । उच्च…

स्वावलम्बन independency) , परावलम्बन # जिंदगी की किताब (पन्ना # 406)

क्या अच्छा है स्वावलम्बन होना या (independency) , परावलम्बन होना ? हर मनुष्य मे किसी भी कार्य को करने की अगाध क्षमता व शक्ति होती है । अपनी पसंद या नापसंद कार्यो के अनुसार उसकी हर क्षेत्र मे अलग अलग क्षमता होती है लेकिन होती जरूर है। बस जरूरत है अपने ऊपर भरोसा रखने की…

वास्तविक स्वभाव मे रमण करे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 397)

वास्तविक स्वभाव मे रमण करे तो जिन्दगी जीना सहज होगा वह भी एक सकुन के साथ । हर इंसान मे कुछ ना कुछ विशेष गुण (अच्छा गुण ) जरूर होता है , यदि वह इस विशेष गुण को किसी भी स्थिति मे बरकरार रखे तो वह अपना ध्येय आसानी से पूरा करने मे समर्थ हो…

अन्तर्ध्वनी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 386)

अन्तर्ध्वनी …. हमारे अंदर की अनेक त्रुटियों मे से एक त्रुटि ये भी है कि हम कभी भी अपनी अन्तर्ध्वनी की और कान नही देते । अंतरात्मा जिस बात को बार बार पुकार कर कहती है ,उसे सुनने व समझने की और हमारा ध्यान नही जाता ।यदि इंसान अपनी अंतरात्मा की सुने तो वह कभी…

उत्साह एवं मुस्कराहट # जिंदगी की किताब (पन्ना # 385)

उत्साह एवं मुस्कराहट …… दोस्तों जिंदगी में उत्साह एवं मुस्कराहट का होना बहुत जरूरी है। काम कठिन हो या सरल ,मुस्कराहट भरे चेहरे के साथ उत्साह से किया गया कार्य कम समय मे भी अच्छे ढंग से हो जाता है व साथ मे बिगड़ते हुए काम को भी बना देता है ।वहीं निस्तेज और थका…

अपंग नही दबंग बने # जिंदगी की किताब (पन्ना # 383)

पिक्चर गूगल के सौजन्य से किसी भी मंजिल को पाने के लिये परिश्रम या संघर्ष से नही घबराना चाहिये । जितना परिश्रम या मेहनत करेंगे उतने ही हम मजबूत बनेंगे ।ये मजबूती ही हमारी जिन्दगी की उडान को पूरा करने मे मदद करेगी । यदि हमारे सभी कार्य बिना मेहनत किये होने लगे तो धीरे…

घड़े से कुछ सीखे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 382)

जो इंसान कष्टों को चीरकर बिना घबराये आगे बढ़ता है वही आगे जाकर महापुरूष , विशिष्ट पुरुष , लोकपूज्नीय बनता है । आगे बढ़ने के लिये सहनशीलता भी जीवन की अमूल्य सम्पदा है ,निधी है । ऐसे इंसान को कोई पराजित नहीं कर सकता , हर क्षैत्र मे उसकी जीत होती है । एक व्यक्ति…

Quote # 31 # मज़बूत बने

Dunia mein aaisa vyakti kon hein Jisey kisi bhi badha ka samna karna na padta ho Sacchai toh yeh hein ki har roz kisi na kisi dikkat ka samna karna hi padta hein Phir jiwan mein badhaoo se ghabrana kaisa आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quotes # 28 # karma # fearless

If it is not in your karma, then no one in this world can touch you, so be fearless . — Dadabhagwan Vimla wilson Jay sat chit anand 🙏🙏

Quotes # 24

रूक ना राही निरंतर चलते रहना अपनी मंजिल की और चलते रहने से ही बनेगी पगडंडियाँ आपकी आभारी विमलाविल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏